आदत

Photo by Aaron Burden on Unsplash

वक़्त वक़्त की बात है जनाब
आदत बनते देर नहीं लगती

यूँ तो कुंभकरण के पद-चिन्हों में चलने के शौकीन
रात भर उनसे बातचीत करने में बिता रहे हैं
क्या करें आदत सी हो गई है।

यूँ तो तबियत से कॉफी के शौकीन
चाय का लुत्फ़ उठा रहे हैं
क्या करें आदत सी हो गयी है।

यूँ तो मिज़ाज से उपन्यास के शौकीन
ग़ालिब के साथ समय गुज़ार रहे हैं
क्या करें आदत सी हो गई है।

यूँ तो गाड़ियों में विचरने के शौकीन
उनका हाथों में हाथ डाल घूमने निकले हैं
क्या करें आदत सी हो गई है।

यूँ तो हम भी हर रोज़ नई मोहब्बत के शौकीन
लेकिन क्या करें अब तुम्हारी आदत सी हो गई है।

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply