अफ़साने

Photo by Dương Nhân from Pexels
Photo by Dương Nhân from Pexels

सिसकियों की गूँज है सिरहाने मेरे
लफ़्ज़ों में सिमटते नहीं हैं फ़साने मेरे

बैर मोल लिया है नींद के पहरेदारों से
वो आती नहीं अब स्वप्न सजाने मेरे

सुकून तलाशती है बंजारन ज़माने में
कितने अरसे से वीरान हैं काशाने मेरे

मुस्कुराने में बिता दिया सारा बचपन
अब जवानी गिनाती है कर्ज़ पुराने मेरे

तन्हाई का रंज हो तो भी किससे कहें
जब मुक़म्मल ही न हो सके याराने मेरे

हाथ थामने की बात करते हैं अक़्सर
मग़र साथ निभाने से घबराते हैं दीवाने मेरे

अपनों पर ऐतबार की भूल हुई थी
अब गैरों में बसते हैं आशियाने मेरे

कोशिश करने वाले हार मान चुके हैं
ज़िन्दगी भी ठुकराती हैं नज़राने मेरे

मुझे तुम कहानीकार न समझना
जब हालात ही बुनते हैं ताने-बाने मेरे

चित व्याकुल था कल और आज भी है
अब कहाँ बदलेंगें अफ़साने मेरे

© अपूर्वा बोरा​

Leave a Reply