बाकी है

Photo by Kelly Sikkema on Unsplash

शब्द तो कोरे हैं
अभी उन्हें जज़्बातों में
डुबोना बाकी है
किस्से तो थोड़े हैं
अभी उन्हें कहानी में
पिरोना बाकी है

रिश्ते तो कोरे हैं
अभी उन में वात्सल्य
उमड़ना बाकी है
लम्हें तो थोड़े हैं
अभी उन में ज़िन्दगी
भरना बाकी है

मकान तो कोरे हैं
अभी उनका घर
बनना बाकी है
रास्ते तो थोड़े हैं
अभी उनका मंजिल
पहुंचना बाकी है

शायर तो कोरे हैं
अभी उन्हें दिल
खोना बाकी है
आशिक तो थोड़े हैं
अभी उन्हें मोहब्बत
होना बाकी है

शब्द तो कोरे हैं
अभी उन्हें जज़्बातों में
डुबोना बाकी है
किस्से तो थोड़े हैं
अभी उन्हें कहानी में
पिरोना बाकी है।

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply