बड़ी दुविधा है

Photo by Micaela Parente on Unsplash

बड़ी दुविधा है
महीना अभी
आधा भी नहीं
कटा है और
राशन लेने से
लेकर बाई
के पैसे देने
तक खुद के
लिए शायद
ही कुछ
खरीदने का
वक़्त मिले

बड़ी दुविधा है
सफ़ाई वाली
दीदी कुछ दिन
छुट्टी पर क्या गईं
घर में तो कोहराम
मच गया दो दिन
पहले ही घर में
कॉकरोच दिखा
था शायद एक
स्प्रे भी लेना पड़े

बड़ी दुविधा है
इस चिपचिपी
गर्मी में फल
कौनसे चुनने हैं
आधों में रस
नहीं तो बाकी में
मिठास की कमी
है शायद इस
बार भी घर से
ही कुछ सामान
मंगवाना पड़े

बड़ी दुविधा है
पैसे ख़र्चते ख़र्चते
हम खुद ही खर्च
हो रहे हैं और
महंगाई तो पता
नहीं कौनसा
आसमान नापने
लगी है जिसमें
अपनी आमदनी
आजकल अपनी
भी ना लगे

बड़ी दुविधा है
अभी शनिवार आते
आते दोस्तों का भी
जलसा सा लग
जाएगा और बचे हुए
पैसे और रातें उसी
में निपट जाएंगी
सोमवार कब दस्तक
दे इसका होश भी
जब ना रहे 

तो समझ लेना बन्धु
बड़ी दुविधा है।

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply

Close Menu