चाहकर भी

Photo by shannon VanDenHeuvel on Unsplash

दिन तो बीत जाता है मग़र रातें काटी नहीं जाती
लबों को सी लेने की अब आदत हो गई है हमें
चाहकर भी ये बातें किसी से बाँटी नहीं जाती

हौसला तो रह जाता है मग़र कोई आस नहीं आती
तन्हा जी लेने की अब आदत हो गई है हमें
चाहकर भी ये हक़ीक़त रास नहीं आती

वो तो चला जाता है मग़र यादें कहीं नहीं जाती
अश्कों को पी लेने की अब आदत हो गई है हमें
चाहकर भी ये ह्रदय की पीड़ा सही नहीं जाती

हादसा तो घट जाता है मग़र कोई ख़बर नहीं आती
राज़ को छिपा लेने की अब आदत हो गई है हमें
चाहकर भी ये अंधेरे के बाद सहर नहीं आती

धागा तो जुड़ जाता है मग़र गाँठ सुलझाई नहीं जाती
उलझनों को समझ लेने की अब आदत हो गई है हमें
चाहकर भी ये रहीम की नसीहत भुलाई नहीं जाती

इंसान टूट जाता है मग़र कोई आवाज़ नहीं आती
ख़ुद को संभाल लेने की अब आदत हो गई है हमें
और चाहकर भी ये आदतों से बाज़ नहीं आती

दिन तो बीत जाता है मग़र रातें काटी नहीं जाती
लबों को सी लेने की अब आदत हो गई है हमें
चाहकर भी ये बातें किसी से बाँटी नहीं जाती

© अपूर्वा बोरा​

Leave a Reply