जहाँ भी रहे

Photo by Allef Vinicius on Unsplash

खुश रहे या बर्बाद रहे
हम दुनिया में जहाँ भी रहे
तुम्हारी धड़कन में आबाद रहे

उदास रहे या मुस्कुराते रहे
हम दुनिया में जहाँ भी रहे
तुम्हारी सूरत देख इतराते रहे

तन्हा रहे या महफ़िल में रहे
हम दुनिया में जहाँ भी रहे
तुम्हारी आँखों के साहिल में रहे

धूप में तपे या छाँव में रहे
हम दुनिया में जहाँ भी रहे
तुम्हारी यादों के साये में रहे

शराफ़त से रहे या गुनाह कर रहे
हम दुनिया में जहाँ भी रहे
तुम्हारी मोहब्बत की पनाह में रहे

दूर रहे या पास रहे
हम दुनिया में जहाँ रहे
हरदम तुम्हारे साथ रहे

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply