कागज़

Photo by Annie Spratt on Unsplash

कागज़ की
चिट्ठी को
पहले प्यार के
इज़हार पर
नन्हें हाथों
में थमाना

कागज़ की
कश्ती को
बारिश के
पानी के
नन्हें तालाब
में तैराना

कागज़ के
विमान को
दोस्तों संग
छत पर
नन्हें शिखर
में उड़ाना

कागज़ के
फूलों को
आकार दे
अम्मा के
नन्हें जूड़े
में सजाना

कागज़ के
एक टुकड़े से
जाने कितने
ख़्वाबों को
पंख देना
बचपन की
इन मधुर
स्मृतियों को
अब सम्भाल
कर यूँ ही
रख देना

क्योंकि अब
ना तो पहले
प्यार की पहली
चिट्ठी लिखी
जाती है
ना बारिश में
कश्ती तैराई
जाती है
ना दोस्तों संग
विमान उड़ाया
जाता है
और ना ही
कागज़ का फूल
अम्मा के बालों
में सजाया
जाता है

उस कागज़
के टुकड़े को
अपनी यादों
में ज़िंदा रखना
ठीक वैसे ही
जैसे उस
कागज़ ने
तुम्हारी कल्पना
को रखा था

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply