कुछ

कुछ पल हम कैमरे में इसलिए कैद कर लेते हैं,
क्योंकि उन्हें हम भूलना नहीं चाहते।
 
और कुछ लोगों को हम यादों में इसलिए कैद कर लेते हैं,
क्योंकि उन्हें हम भुलाना नहीं चाहते।
 
कुछ तस्वीरों में हम खुशी तलाशते हैं
और कुछ तस्वीरों का दीदार कर अश्क़ बहाते हैं।
 
कुछ लोगों में हम मोहब्बत तलाशते हैं
और कुछ लोगों का दीदार कर उनमें घर बनाते हैं।
 
कुछ लम्हें हम तस्वीरें देख कर जी लेते हैं
और कुछ सांसें हम लोगों को देख कर भर लेते हैं।
 
कुछ जज़्बातों में हम लफ्ज़ ढूंढते फिरते हैं
और कुछ लफ़्ज़ों में हम जज़्बात ढूंढा करते हैं।
 
कुछ पल को हम भुलाना नहीं चाहते
और कुछ लोगों को हम भुला नहीं पाते हैं।

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply

Close Menu