मैं लिखती बाद में हूँ

Photo by Cathryn Lavery on Unsplash

किसी भी कहानी को
जीती पहले हूँ
उसे कहती बाद में हूँ
मैं लिखती बाद में हूँ

किसी भी किरदार से
टकराती पहले हूँ
उसे बुनती बाद में हूँ
मैं लिखती बाद में हूँ

किसी भी किस्से को
सुनती पहले हूँ
उसे दोहराती बाद में हूँ
मैं लिखती बाद में हूँ

किसी भी जज़्बात से
आंखे मिलाती पहले हूँ
उसे शब्दों में उतारती बाद में हूँ
मैं लिखती बाद में हूँ

किसी भी कहानी में
बिखरती पहले हूँ
उसे समेटती बाद में हूँ
मैं लिखती बाद में हूँ

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply