मालूम पड़ता है

Image by Rodolfo Sayegh from pixy.org

सुबह चार बजे
कोई दस्तक देता
मालूम पड़ता है
यहां नींद आंखों के परे है
वहाँ वो मुझे जगाने की कोशिश करता
मालूम पड़ता है

सिरहाने की तकिया से
कानों को ढक लेना आसान
मालूम पड़ता है
यहाँ उसका चेहरा आँखों में छाया है
वहाँ वो पानी छपछपाने के लिए कहता
मालूम पड़ता है

मेरे फ़ोन भी अलार्म की 
आवाज़ देता
मालूम पड़ता है
यहाँ तलब है गरम चाय की
वहाँ वो कश खींचता
मालूम पड़ता है

सुबह चार बजे
कोई दस्तक देता
मालूम पड़ता है
यहां नींद आंखों के परे है
वहाँ वो मुझे जगाने की कोशिश करता
मालूम पड़ता है

यहाँ जीने का दिल है
वहाँ वो ज़िन्दगी काटता 
मालूम पड़ता है।

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply

Close Menu