मेरी जान

Photo by Anastasia Shuraeva from Pexels
Photo by Anastasia Shuraeva from Pexels

क्या जागती हो अब भी रातों में
या करती हो ख़्वाबों में मेरा इंतज़ार
मुझसे फ़ासला बढ़ा कर मेरी जान
किस पर लुटाती हो मेरे हिस्से का प्यार?

क्या रोकती हो आब-ए-चश्म हुज़ूम में
या बिखरती हो तन्हाई में ज़ार ज़ार
मेरी कमी ख़लने पर मेरी जान
किस संग लेती हो रात गुज़ार?

क्या छिपाती हो अब भी किताबों में
या पढ़ती हो सर-ए-बाज़ार
मुझ तक न पहुँचे जो ख़त मेरी जान
किस पते भेजती हो अपने अशआर?

क्या तलाशती हो अब भी ज़माने में
या परखती हो दीवानों की क़तार
मेरी बाहों में जो न मिल सका मेरी जान
कहाँ हासिल होगा तुम्हें दिल का क़रार?

क्या जलती हो आतिश-ए-उल्फ़त में
या करती हो डूबकर दरिया पार
मुझ सा एक दीवाना ढूंढ़ कर मेरी जान
क्या उस पर लुटाती हो मेरे हिस्से का प्यार?

*आब-ए-चश्म – Tears
*सर-ए-बाज़ार – Openly
*अशआर – Couplets/poetry
*क़रार – Peace
*आतिश-ए-उल्फ़त – Fire of love

© अपूर्वा बोरा​

Leave a Reply