मिल तो नहीं रहे हैं हम

Photo by Maria Teneva on Unsplash

मिल तो नहीं रहे हैं हम
फ़िर ना मिलने का बहाना क्यों बनाना
फ़ासलों को मिटा पाओ तो बात करो
वरना दिल को बेवज़ह क्यों बहलाना

मिल तो नहीं रहे हैं हम
फ़िर जज़्बातों को बीच में क्यों लाना
अंजाम का डर नहीं है तो बात करो
वरना दिल को बेवज़ह क्यों भटकाना

मिल तो नहीं रहे हैं हम
फ़िर मोहब्बत से क्यों बहकाना
हालात बदल पाओ तो बात करो
वरना दिल को बेवज़ह क्यों फुसलाना

मिल तो नहीं रहे हैं हम
फ़िर वादों को क्यों निभाना
कोशिश कर पाओ तो बात करो
वरना दिल को बेवज़ह क्यों दुखाना

मिल तो नहीं रहे हैं हम
फ़िर दिल को बेवज़ह क्यों लगाना
इंतज़ार कर पाओ तो बात करो
वरना जाना, हमें भूल ही जाना।

© अपूर्वा बोरा​

Leave a Reply