पत्ता

Photo by Harli Marten on Unsplash

पतझड़ का
मौसम आते ही जैसे
एक पत्ता अपनी
डाली से वियुक्त होने
के लिए आतुर हो
उठता है

शायद नहीं जानता
कि समाज उसके
नाज़ुक ह्रदय के
विपरीत बड़ा कठोर
हो चुका है

शायद नहीं मानता
कि उसकी आज़ादी
का कर्ज़ अपने सुकून
से अदा करना पड़
सकता है

शायद नहीं चाहता
कि उसका जीवन
उसी वृक्ष तक सिमट
कर रह जाए जहाँ
वो जन्मा था

शायद इसलिए
हर पतझड़ के
मौसम की दस्तक
सुनते ही वृक्ष का
हर एक पत्ता अपनी
डाली से वियुक्त होने
के लिए आतुर हो
उठता है

और सब पीछे छोड़
निकल पड़ता है
एक बेहतर जीवनशैली
की आस में
और एक बेहतर जिंदगी
की तलाश में।

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply

Close Menu