राँझे दी हीर

Photo by Hassan Wasim on Unsplash

किसी शायरी में बांध रही हूँ तुझे
तू इतना भी ना हो अधीर

चाहे लाख चेहरा छिपा ले
मेरी आँखों में बस चुकी है तेरी तस्वीर
ऐ राँझे कहाँ भटकता फिरता है
यहाँ बैठी है तेरी हीर

किसी कविता में ढाल रही हूँ तुझे
तू इतना भी ना हो अधीर

चाहे लाख नज़रें चुरा ले
इश्क़ का लग चुका है तुझे तीर
ऐ राँझे कहाँ भटकता फिरता है
यहाँ बैठी है तेरी हीर

किसी कहानी में बुन रही हूँ तुझे
तू इतना भी ना हो अधीर

चाहे लाख मुश्किलें टकरा ले
मैं बूझ लूंगी कोई तदबीर
ऐ राँझे कहाँ भटकता फिरता है
यहाँ बैठी है तेरी हीर

किसी नज़्म में गुनगुना रही हूँ तुझे
तू इतना भी ना हो अधीर

चाहे ज़माना कितना आज़मा ले
हमारी जुड़ चुकी है तकदीर
ऐ राँझे कहाँ भटकता फिरता है
यहाँ बैठी है तेरी हीर

तू हीर दा रांझा
और मैं राँझे दी हीर।

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply