साथी

Photo by Everton Vila on Unsplash

दिन भर की थकन से चूर
जब घर लौट कर आऊं मैं
तो राहत की एक सांस का
उधार नहीं चाहिए

मेरा वक़्त मेरा हो
उस पर किसी और का
अधिकार नहीं चाहिए

एकांत की परिभाषा
जो समझ सके
ऐसा साथी चाहिए

किताबों में मशगूल
जब हो जाऊं मैं
तो आम सी किसी बातचीत की
दरकार नहीं चाहिए

मेरा शौक मेरा हो
उस पर किसी और का
अधिकार नहीं चाहिए

रुचि की परिभाषा
जो समझ सके
ऐसा साथी चाहिए

आसमान में बिखरे तारों तले
जब एक चम्मच चांदनी चुराऊं मैं
तो असाध्य सपनों को ले कर
तकरार नहीं चाहिए

मेरा ख़्वाब मेरा हो
उस पर किसी और का
अधिकार नहीं चाहिए

उम्मीद की परिभाषा
जो समझ सके
ऐसा साथी चाहिए

नींद के आगोश में
जब डूब जाऊं मैं
तो बिना दस्तक छूने का
करार नहीं चाहिए

मेरा शरीर मेरा हो
उस पर किसी और का
अधिकार नहीं चाहिए

इज़ाज़त की परिभाषा
जो समझ सके
ऐसा साथी चाहिए

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply