संदूक

Photo by User 12019 from Pixabay

एक संदूक है
जिसे साथ लिए चल रहे हैं
बोझ बढ़ता जाता है
इसलिए कदम लडख़ड़ा रहे हैं
दिल हल्का करने के लिए कोई मिलता नहीं
इसलिए भार उठा रहे हैं

एक संदूक है
जिसे साथ लिए चल रहे हैं
संदूक में
एक यादों की चादर का
बिछौना फैला कर रखा है
उन कोनों से कहीं वो बातें न रिस जाएं
इसलिए गाँठें भी कस रहें हैं

एक संदूक है
जिसे साथ लिए चल रहे हैं
संदूक के
एक कोने में माँ के खाने का 
स्वाद छिपा कर रखा है
उन कोनों से कहीं वो जादू न रिस जाए
इसलिए गाँठें भी कस रहें हैं

एक संदूक है
जिसे साथ लिए चल रहे हैं
संदूक में
एक बचपन की इत्र को
छिड़क कर रखा है
उन कोनों से कहीं वो खुशबू न रिस जाए
इसलिए गाँठें भी कस रहे हैं

एक संदूक है
जिसे साथ लिए चल रहे हैं
संदूक के
एक कोने में अधूरे सपनों को
तह बना कर रखा है
उन कोनों से कहीं वो सपनें न रिस जाएं
इसलिए गाँठें भी कस रहें हैं

एक संदूक है
जिसे साथ लिए चल रहे हैं
संदूक में
एक बीता हुआ ज़माना
ढक कर रखा है
उन कोनों से कहीं वो वक़्त न रिस जाए
इसलिए गाँठें भी कस रहें हैं

एक संदूक है
जिसे साथ लिए चल रहे हैं
संदूक के
एक कोने में कहानियों को
संभाल कर रखा है
उन कोनों से कहीं वो किस्से न रिस जाएं
इसलिए गाँठें भी कस रहे हैं

एक संदूक है
जिसे साथ लिए चल रहे हैं
बोझ बढ़ता जाता है
इसलिए कदम लडख़ड़ा रहे हैं
दिल हल्का करने के लिए कोई मिलता नहीं
इसलिए भार उठा रहे हैं

एक संदूक है
जिसे साथ लिए चल रहे हैं

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply

Close Menu