तू नहीं

Photo by kevin laminto on Unsplash

तू नहीं
तेरा ख़याल सही
मेरा मुझमें
अब क्या ही
बाकी है
तू नहीं तो
तेरे होने का
महज़ एहसास ही
काफ़ी है

तू नहीं
तेरी खुशबू सही
मेरे ज़हन में
तेरा स्पर्श अब भी
बाकी है
तू नहीं तो
तेरे होने का
महज़ एहसास ही
काफ़ी है

तू नहीं
तेरा ख़्वाब सही
एक उम्मीद की
किरण अब भी
बाकी है
तू नहीं तो
तेरे होने का
महज़ एहसास ही
काफ़ी है

तू नहीं
तेरी खामोशी सही
मुझमें मोहब्बत
का अंश अब भी
बाकी है
तू नहीं तो
तेरे होने का
महज़ एहसास ही
काफ़ी है

तू नहीं
तेरा ख़याल सही
मेरा मुझमें
अब क्या ही
बाकी है
तू नहीं तो
तेरे होने का
महज़ एहसास ही
काफ़ी है।

© अपूर्वा बोरा​

Leave a Reply