ज़माना

Photo by Jan Rye from Pixabay

वो ज़माना और था
जब इंसान
पत्थरों का घर
बनाता था
ये ज़माना और है
जब इंसान
पत्थर का खुद
बन जाता है

वो ज़माना और था
जब इंसान
मौत से 
अपनी जान 
बचाता था
ये ज़माना और है
जब इंसान
कशों में
मौत को गले
लगाता है

वो ज़माना और था
जब इंसान
इंसान से नहीं
जानवरों से
घबराता था
ये ज़माना और है
जब इंसान ही
इंसान को
सताता है।

 © अपूर्वा बोरा

Leave a Reply

Close Menu